कोलकाता में बने दुर्गा पूजा पंडाल का वीडियो अयोध्या के राम मंदिर का बताकर वायरल

लेखक:
दिसंबर 19 2023

शेयर आर्टिकल: facebook logo twitter logo linkedin logo
कोलकाता में बने दुर्गा पूजा पंडाल का वीडियो अयोध्या के राम मंदिर का बताकर वायरल

सोशल मीडिया यूज़र्स वीडियो शेयर करते हुए दावा कर रहे हैं कि यह वीडियो अयोध्या के राम मंदिर का है. (सोर्स: एक्स, फ़ेसबुक/स्क्रीनशॉट)

फैक्ट चैक

निर्णय असत्य

कोलकाता में दुर्गा पूजा के दौरान राम मंदिर की थीम पर बनाये गए एक पंडाल का वीडियो अयोध्या के राम मंदिर का बताकर शेयर किया जा रहा है.

क्लेम आईडी e0e1c03d

यह फ़ैक्ट-चेक पहली बार 19 दिसंबर, 2023 को हिंदी में प्रकाशित हुआ और इसे राम मंदिर प्राण-प्रतिष्ठा से जोड़ने के दावों के बीच इसे फिर से प्रकाशित किया जा रहा है.

दावा क्या है?

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर का उद्घाटन समारोह जनवरी 22, 2024 को होने जा रहा है. इसी सिलसिले में एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें रोशनी में डूबी एक मंदिर जैसी संरचना जगमगाती नज़र आ रही है. इस वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो अयोध्या के राम मंदिर का है.

एक्स (पूर्व में ट्विटर) और फ़ेसबुक पर यह वीडियो तेज़ी से वायरल हो रहा है. एक एक्स यूज़र ने वीडियो पोस्ट करते हुए कैप्शन दिया, "बधाई हो, श्री राम मंदिर अयोध्या जी में विद्युत कार्य पूर्ण, भव्य दिव्य, अलौकिक जगमगाहट...." पोस्ट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखें. ऐसे ही दावे वाले अन्य पोस्ट के आर्काइव वर्ज़न यहां, यहां और यहां देखे जा सकते हैं. 

वायरल पोस्ट के स्क्रीनशॉट (सोर्स: एक्स, फ़ेसबुक/स्क्रीनशॉट)

हालांकि, यह वीडियो अयोध्या के राम मंदिर का नहीं है. असल में, यह कोलकाता के एक दुर्गा पूजा पंडाल का वीडियो है जो राम मंदिर की थीम पर बनाया गया था.

सच का पता कैसे लगाया? 

सबसे पहले हमने अयोध्या के राम मंदिर के निर्माण से जुड़ी मीडिया रिपोर्ट्स को चेक किया और पाया कि मंदिर अभी निर्माणाधीन ही  है. दिसंबर 15 को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के एक्स अकाउंट पर राम मंदिर की तस्वीरें शेयर की गईं थीं, जिसमें मंदिर की पहली मंजिल के निर्माण की वर्तमान स्थिति दिखाई गई थी. लेकिन वायरल वीडियो में जो दृश्य दिखाए गए हैं उसमें मंदिर अपने पूर्ण आकार में नज़र आता है, जिससे यह पता चलता है कि यह वीडियो क्लिप अयोध्या के राम मंदिर का नहीं है. 


वायरल वीडियो कहां से है? 

इसके बाद, हमने रिवर्स इमेज सर्च के ज़रिये वीडियो को खोजा, तो हमें कई मीडिया रिपोर्ट्स मिलीं. इन रिपोर्ट्स में वीडियो से मिलते-जुलते दृश्य दिखाने वाली तस्वीरें और वीडियो मौजूद हैं.

अक्टूबर 24 को प्रकाशित आउटलुक इंडिया की रिपोर्ट में बताया गया है कि उत्तरी कोलकाता के संतोष मित्रा स्क्वायर में अयोध्या के राम मंदिर की थीम पर एक दुर्गा पूजा पंडाल बनाया गया था. इस पंडाल को अयोध्या के राम मंदिर की एक भव्य प्रतिकृति (Replica) का रूप दिया गया था. रिपोर्ट में राम मंदिर-थीम वाले पंडाल की कई तस्वीरें मौजूद हैं, जिसमें वायरल वीडियो के समान दृश्य हैं.

आउटलुक इंडिया रिपोर्ट में मौजूद राम मंदिर-थीम वाले पंडाल की तस्वीर. (सोर्स: आउटलुक इंडिया/स्क्रीनशॉट)

हिंदी चैनल आज तक की अक्टूबर 16 की वीडियो रिपोर्ट के मुताबिक़, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कोलकाता में राम मंदिर की थीम पर बनाये गए दुर्गा पंडाल का उद्घाटन किया था. इस दुर्गा पूजा पंडाल के आयोजक बीजेपी नेता ने अमित शाह को उद्घाटन के लिए आमंत्रित किया था. 

नवभारत टाइम्स, द वायर, प्रभात ख़बर, ओटीवी न्यूज़ समेत तमाम मीडिया रिपोर्ट्स में इस दुर्गा पूजा पंडाल का ज़िक्र है. 

हमें अक्टूबर 17 का एक फ़ेसबुक पोस्ट भी मिला, जिसमें राम मंदिर-थीम वाले कोलकाता संतोष मित्रा स्क्वायर के दुर्गा पूजा पंडाल के कई वीडियो और तस्वीरें शेयर किये गए थे. इसमें हूबहू दृश्य देखे जा सकते हैं, जो वायरल वीडियो में दिखाए गए हैं. 

नीचे वायरल वीडियो और कोलकाता के संतोष मित्रा स्क्वायर में बनाये गए राम मंदिर-थीम वाले पूजा पंडाल के बीच समानताएं देखी जा सकती हैं.

वायरल वीडियो और फ़ेसबुक पोस्ट में मौजूद समान दृश्यों का स्क्रीनशॉट (सोर्स: फ़ेसबुक/स्क्रीनशॉट)

निर्णय

वायरल वीडियो के साथ शेयर किया गया ये दावा कि इसमें अयोध्या के राम मंदिर में बिजली का पूरा हो चुका काम दिखाया गया है, ग़लत है. दरअसल, यह वीडियो कोलकाता के एक दुर्गा पूजा पंडाल का है जो राम मंदिर की थीम पर बनाया गया था. यह वीडियो अयोध्या में नहीं लिया गया. इसलिए, हम वायरल दावे को ग़लत मानते हैं. 

इस फैक्ट चेक को पढ़ें

English , हिंदी

क्या आप फ़ैक्ट-चेक के लिए कोई दावा प्रस्तुत करना चाहेंगे या हमारी संपादकीय टीम से संपर्क करना चाहेंगे?

0
ग्लोबल फैक्ट चेक पूरा हुआ

हमारे जीवन पर असर डालने वाले फैसलों के लिए हम सूचना पर भरोसा करते हैं, लेकिन इंटरनेट के जरिए ग़लत सूचनाएं इतनी तेजी से लोगों तक पहुंचाई जा रही है जैसा पहले कभी नहीं हुआ था.